पत्नी ये बोली एक बार अपने पति से,

Mar 23, 2006

पत्नी ये बोली एक बार अपने पति से,
शादी योग्य हो गई है बिटिया तुम्हारी जी,
जल्दी से ब्याहो इसे और गंगा नहाओ,
पाप धो के करो चलने की तैयारी जी,
पति बोला जल्दी ना मचाओ मिलने तो देओ,
कोई अच्छा लड़का कोई योग्य अधिकारी जी,
पत्नी बोलीं,
सोचो मेरे पिताजी यदि कुछ ऐसा सोच लेते,
आज तक भी मैं बैठी होती रे कुँवारी जी।

2 प्रतिक्रियाएं:

Udan Tashtari said...

अच्छी हास्य कविता है, बधाई.

समीर लाल

Pratik said...

बढिया है...